NEWS

ट्रकों के किराए में एक बार फिर से हुई 3% से 4% की वृद्धि

By Kunal Mishra
Date: Oct 05 , 2019

ट्रकों का किराया अगस्त के ही महीने में कम हो गया था, लेकिन सितंबर से फिर किराए में एक बार फिर से बढ़ वृद्धि हो गई है। इंडियन फाउंडेशन ऑफ ट्रांसपोर्ट रिसर्च एंड ट्रेनिंग (IFTRT) ने इस मुद्दे पर एक रिसर्च की है, जिसमें यह पाया गया है कि उपभोक्ता खर्च भरपूर तरह से बढ़ गया है।

ट्रकों का किराया कम होने के बाद भी आए दिन बढ़ रहा है जिसकी वजह से होलसेलर्स को नुकसान भी झेलना पड़ रहा है। देश में चल रही इस आर्थिक मंदी के दौर में ट्रकों के किराए के साथ-साथ लोगों की समस्याएं भी बढ़ती जा रही हैं। आईएफटीआरटी (IFTRT) के संयोजक एसपी सिंह (S.P Singh) ने बताया "दिल्ली-कोलकाता-दिल्ली, दिल्ली-हैदराबाद-दिल्ली, दिल्ली-मुंबई-दिल्ली, दिल्ली-बेंगलुरु-दिल्ली जैसे बड़े-बड़े ट्रक मार्गों में फिर 4 प्रतीशत की बढ़ोत्तरी हुई है। दिल्ली-चेन्नई-दिल्ली 3% ऊपर है। ट्रकों के किराए में बढ़ोत्तरी की वजह ईंजन की लागत में वृद्धि बताई जा रही है।

फिलहाल ट्रक फ्लीट में 25 प्रतीशत से 30 प्रतीशत की निष्क्रिय क्षमता है, जो ज्यादातर एक्सल मानदंडों में बढ़ोत्तरी के साथ-साथ आर्थिक गतिविधियों में मंदी का कारण बन गए हैं। ट्रक इंडस्ट्री के Bs4 की तरफ जाने से पहले यह अनुमान लगाया जा रहा है कि कुछ Bs4 इंजन्स वृद्धि से पहले ही ले लिए जाएंगे। जबकी अभी तक बीएस 6 में उद्योग में अपेक्षित पूर्व की खरीद अभी तक नहीं हुई है। देखा जाए तो ट्रंक रूट भाड़े की दर 3000 रूपये से अधिक हो चुकी है। बता दें कि दिल्ली मुंबई मार्ग 1 अक्तूबर को 86,500 रूपये से उपर है। इसके साथ ही साथ 2 सितंबर को 83,500 रुपये से और दिल्ली-बेंगलुरु-दिल्ली मार्ग 2 सितंबर को 1,21,000 रुपये से अक्तूबर में 1,26,400 रुपये हो गया है। 

CUSTOMIZE

Choose your Color

Versions

Background for Boxed